ऋग्वेद में उल्लेखित शब्द

ऋग्वैदिक काल में बहुत से शब्दों का उल्लेख हमें देखने/पढ़ने को मिलता है। जिनमें कुछ शब्दों का उल्लेख ज्यादा बार हुआ है तो कई शब्दों का जिक्र बहुत कम बार। शब्दों के उल्लेख से हम ये अंदाजा लगा सकते हैं कि किसका महत्व ऋग्वेद में ज्यादा है। वैसे कभी-कभी इन शब्दों को परीक्षाओं में भी […]

और पढ़ें...

ऋगवेद : प्राचीनतम वेद

  ऋग्वेद हिन्द यूरोपीय भाषाओं का सबसे प्राचीनतम और पवित्र ग्रन्थ है। इसमें अग्नि, इन्द्र, मित्र, वरुण आदि देवताओं की स्तुतियाँ संग्रहित हैं, जिनकी रचना विभिन्न गोत्रों के ऋषियों और मन्त्रसृष्टाओं ने की है। ऋग्वेद सनातन धर्म अथवा हिन्दू धर्म का स्रोत है और इसे सबसे प्राचीनतम वेद माना जाता है। ऋग्वेद के कई सूक्तों […]

और पढ़ें...